राहत इन्दोरी | अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे !!!!

Rahat Indori

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​, फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​, ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​, अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे। Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere, Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere, Zindagi Hai Toh Naye Zakhm … Read more

Rahat Indori | Aaj Dil Khol Ke Bhi Pee Jaaye !!!!

Dosti jab kisi se ki jaaye, rahat indori

Dosti jab kisi se ki jaaye, Dushman’on ki bhi raaye li jaaye ..! Maut ka zehar hai fizaaon mein, Ab kahan jaa ke saans li jaaye ..? Bas isi soch mein hun duba hua, Ye nadi kaise paar ki jaaye ..? Mere maazi ke zakhm bharane lage, Aaj phir koi bhool ki jaaye ..! Bottalen … Read more

जवानी का मोड़…

  लोग हर मोड़ पे रुक-रुक के संभलते क्यों हैं, इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं, मैं न जुगनू हूँ, दिया हूँ न कोई तारा हूँ, रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं, नींद से मेरा ताल्लुक़ ही नहीं बरसों से, ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यों … Read more