ये सुन्दर कविता.. हर रिश्ते के लिए

Najar-Najar Mein Utarna Kamaal Hota Hai, Hindi Shayari

Najar-Najar Mein Utarna Kamaal Hota Hai, Hindi Shayari

ये सुन्दर कविता.. हर रिश्ते के लिए

मैं रूठा, तुम भी रूठ गए
फिर मनाएगा कौन!

आज दरार है, कल खाई होगी
फिर भरेगा कौन!

मैं चुप, तुम भी चुप
इस चुप्पी को फिर तोडे़गा कौन!

बात छोटी को लगा लोगे दिल से,
तो रिश्ता फिर निभाएगा कौन!

दुखी मैं भी और तुम भी बिछड़कर,
सोचो हाथ फिर बढ़ाएगा कौन!

न मैं राजी, न तुम राजी,
फिर माफ़ करने का बड़प्पन दिखाएगा कौन!

डूब जाएगा यादों में दिल कभी,
तो फिर धैर्य बंधायेगा कौन!

एक अहम् मेरे, एक तेरे भीतर भी,
इस अहम् को फिर हराएगा कौन!

ज़िंदगी किसको मिली है सदा के लिए
फिर इन लम्हों में अकेला रह जाएगा कौन!

मूंद ली दोनों में से गर किसी दिन एक ने आँखें..
तो कल इस बात पर फिर पछतायेगा कौन!!

About Hindi Shayari 265 Articles
नमस्कार दोस्तों “hindishayarie.in” में आपका स्वागत है | यहां पर आपको Hindi Shayari, SMS, Quotes, Biography, History, Sports, Love Story, Movie Dialogues इत्यादि से जुड़े हिंदी ब्लॉग मिलेंगे, "hindishayarie.in" से जुड़े रहने के लिए सब्सक्राइब जरूर करें। धन्यवाद दोस्तों..

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*